MAINS ANSWER WRITING 21 January 2019

GS PAPER II Education भारतीय बच्चों में सीखने की बहुत बड़ी कमी है, और सरकारों और नागरिक समाज को वर्तमान शिक्षा-पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक सुधार पर ध्यान देने की आवश्यकता है। चर्चा करे Indian children have a huge learning deficit, Read More …

MAINS ANSWER WRITING 16 January 2019

GS PAPER II एक ऐसे देश में जहां सार्वजनिक प्रवचन बायनेरिज़ में परिवर्तित हो जाता है , उसमे  देशद्रोह और इसके कार्यान्वयन के  वास्तविक कानून के अंधेरे क्षेत्रों के माध्यम से संचालन   करने की कल्पना करना मुश्किल है । इस Read More …

15 JANUARY MAINS ANSWER WRITING

Q.गैर सरकारी संगठन विकास की प्रक्रिया में क्या भूमिका निभाते है ? क्या यह उचित है की इन संस्थाओं पर नियंत्रण रखा जाए ? विश्लेषण कीजिए What role does NGOs plays in developmental process? Is it justified to control and Read More …

14 JANUARY MAINS ANSWER WRITING

Q.क्या भारत ने भीड़ से समबधित आपदा की संवेदनशीलता पर पर्याप्त मात्रा में प्रतिक्रया की है ? इस सन्दर्भ में NDMA द्वारा भीड़ प्रबंधन पर जारी दिशा निर्देश किस तरह इस आपदा की संवेदनशीलता व जूखिम कम करने में मदद Read More …

12 JANUARY MAINS ANSWER WRITING

Q.यह तर्क दिया जाता है कि पानी की कमी और इसके लिए बढ़ता हुआ  संघर्ष निकट भविष्य में एक जाति युद्ध का रूप ले  सकता है। क्या आप सहमत हैं? ऐसी स्थिति से बचने के लिए क्या उपाय अपनाए जा Read More …

11 JANUARY MAINS ANSWER WRITING

Q.सोशल मीडिया के क्या नए उभरते हुए खतरे है और कैसे यह किसी भी देश की विदेश  नीति और घरेलू नीतियों को प्रभावित कर रही है ? What are the new dangers posed by Social media and how this is Read More …

10 JANUARY MAINS ANSWER WRITING

Q.जहां तक सिविल सेवा का संबंध है आचरण संहिता ने हित से अधिक नुकसान किया है। क्या आप सहमत हैं? इस सन्दर्भ में  सुशासन को प्राप्त करने के लिए  नैतिक आचार संहिता का स्थायी समाधान के तौर पर महत्त्व बताए Read More …

09 JANUARY MAINS ANSWER WRITING

महिलाओं को जरूरत है की वो  अपने स्वयं के बच्चे के फैसले को खुद ले  और इन निर्णयों को समझदारी से और अच्छी तरह से बनाने के लिए जानकारी और सेवाएं की उपलब्धता भी होनी चाहिए | यदि यह सचमुच Read More …

08 january Mains Answer Writing

प्रश्न : स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव  के अलावा लोकतंत्र के लिए कोई अन्य विकल्प नहीं है लेकिन हाल के वर्षों में यह तेजी से देखा गया है कि इसको कैसे पीछे धकेल दिया  गया है। इस सम्बन्ध  में, चुनाव सुधारों के लिए किए  कामो  और इसमें  सुधारों की गुंजाइश Read More …