MAINS ANSWER WRITING 14 May 2019

GS PAPER IV

ETHICS

क्या एक सरल और सहज नैतिकता  निजी और सार्वजनिक रूप से समान रूप से परिलक्षित होती है? क्या व्यक्तिगत नैतिक भ्रष्ट सार्वजनिक जीवन में नैतिक रूप से सही हो सकता है या इसके विपरीत? इस संबंध में अपनी राय प्रस्तुत करें?

IS there a one simple, seamless morality, reflected equally in private and in public? Can a personal moral corrupt be morally right in public life or vice versa? Present your opinion in this regard?

Refrence: The Hindu