2016 GS MAINS PAPER II

YEAR 2016

  1. 69वें संविधान संशोधन अधिनियम के उन अत्यावश्यक तत्वों और विषमताओं, यदि कोई हों, पर चर्चा कीजिए, जिन्होंने दिल्ली के प्रशासन में निर्वाचन प्रतिनिधियों और उप-राज्यपाल के बीच हाल में समाचारों में आए मतभेदों को पैदा कर दिया है। क्या आपके विचार में इससे भारतीय परिसंघीय राजनीति के प्रकार्यण में एक नई प्रवृति का उदय होगा?

1.Discuss the essentials of the 69th Constitutional Amendment Act and anomalies, if any, that have led to recent reported conflicts between the elected representatives and the institution of the Lieutenant Governor in the administration of Delhi. Do you think that this will give rise to a new trend in the functioning of the Indian federal politics?

 

  1. भारतीय संविधान का अनुच्छेद 370ए जिसके साथ हाशिया नोट ‘‘जम्मू-कश्मीर के संबंध में अस्थायी उपबंध’’ लगा हुआ है, किस सीमा तक अस्थायी है? भारतीय राज्य-व्यवस्था के संदर्भ में इस उपबंध की भावी संभावनाओं पर चर्चा कीजिए।

2.To what extent is Article 370 of the Indian Constitution, bearing marginal note “temporary provision with respect to the State of Jammu and Kashmir”, temporary? Discuss the future prospects of this provision in the context of Indian polity.

 

  1. ‘‘भारतीय राजनीतिक पार्टी प्रणाली परिवर्तन के ऐसे दौर से गुज़र रही है, जो अन्तर्विरोधों और विरोधाभासों से भरा प्रतीत होता है।’’ चर्चा कीजिए।

3.“The Indian party system is passing through a phase of transition which looks to be full of contradictions and paradoxes.” Discuss.

 

  1. संघ और राज्यों के लेखाओं के संबंध में, नियंत्रक और महालेखापरीक्षक की शक्तियों का प्रयोग भारतीय संवधान के अनुच्छेद 149 से व्युत्पन्न है। चर्चा कीजिए कि क्या सरकार की नीति कार्यान्वयन की लेखापरीक्षा करना अपने स्वयं (नियंत्रक और महालेखापरीक्षक) की अधिकारिता का अतिक्रमण करना होगा या कि नहीं।
  2. Exercise of CAG’s powers in relation to the accounts of the Union and the States is derived from Article 149 of the Indian Constitution. Discuss whether audit of the Government’s policy implementation could amount to overstepping its own (CAG) jurisdiction
  3. उद्देशिका (प्रस्तावना)में शब्द गणराज्यके साथ जुड़े प्रत्येक विशेषण पर चर्चा कीजिए। क्या वर्तमान में परिस्थितियों में वे प्रतिक्षणीय है

5.Discuss each adjective attached to the word ‘Republic’ in the ‘Preamble’. Are they defendable in the present circumstances?

 

  1. कोहिलों केस में क्या अभिनिर्धारित किया गया था? इस संदर्भ में, क्या आप कह सकते हैं कि न्यायिक पुनर्विलोकन संविधान के बुनियादी अभिलक्षणों में प्रमुख महत्व का है?

6.What was held in the Coelho case? In this context, can you say that judicial review is of key importance amongst the basic features of the Constitution?

 

  1. क्या भारत सरकार अधिनियम, 1935 ने एक परिसंघीय संविधान निर्धारित कर दिया था? चर्चा कीजिए।

7.Did the Government of India Act, 1935 lay down a federal constitution? Discuss.

 

  1. अर्ध-न्यायिक (न्यायिकवत्) निकाय से क्या तात्पर्य है? ठोस उदाहरणों की सहायता से स्पष्ट कीजिए।

8.What is quasi judicial body? Explain with the help of concrete examples.

 

  1. प्रोफेसर अमत्र्य सेन ने प्राथमिक शिक्षा तथा प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल के क्षेत्रों में महत्वपूर्ण सुधारों की वकालत की है। उनकी स्थिति और कार्य-निष्पादन में सुधार हेतु आपके क्या सुझाव हैं?

8.Professor Amartya Sen has advocated important reforms in the realms of primary education and primary health care. What are your suggestions to improve their status and performance?

 

  1. ‘‘भारतीय शासककीय तंत्र में, गैर-राजकीय कर्ताओं की भूमिका सीमित हो रही है।’’ इस कथन का समालोचनात्मक परीक्षण कीजिए।

10.“In the Indian governance system, the role of non-state actors has been only marginal.” Critically examine this statement.

 

  1. ‘‘विभिन्न स्तरों पर सरकारी तंत्र की प्रभाविता तथा शासकीय तंत्र में जन-सहभागिता अन्योन्याश्रित होती हैं।’’ भारत के संदर्भ में इनके बीच संबंध पर चर्चा कीजिए।

11.“Effectiveness of the government system at various levels and people’s participation in the governance system are inter-dependent/” Discuss their relationship in the context of India.

 

  1. ट्रान्सपेरेन्सी इन्टरेनेशनलके ईमानदारी सूचकांक में, भारत काफी नीचे के पायदान पर है। संक्षेप में उन विधिक, राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक तथा सांस्कृतिक कारकों पर चर्चा कीजिए, जिनके कारण भारत में सार्वजनिक नैतिकता का ह्रास हुआ है।

12.In the integrity index of Transparency International, India stands very low. Discuss briefly the legal, political, social and cultural factors that have caused the decline of public morality in India.

 

  1. क्या भारतीय सरकारी तंत्र ने 1991 में शुरू हुए उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण की मांगों के प्रति प्रर्याप्त रूप से अनुक्रिया की है? इस महत्वपूर्ण परिवर्तन के प्रति अनुक्रियाशील होने के लिए सरकार क्या कर सकती है?

13.Has the Indian governmental system responded adequately to the demands of Liberalization, Privatization and Globalization started in 1991? What can the government do to be responsive to this important change?

 

  1. ‘‘पारम्परिक अधिकारीतंत्रीय संरचना और संस्कृति ने भारत में सामाजिक-आर्थिक विकास की प्रक्रिया में बाध डाली है।’’ टिप्पणी कीजिए।

14.“Traditional bureaucratic structure and culture have hampered the process of socio-economic development in India.” Comment.

 

  1. राष्ट्रीय बाल नीति के मुख्य प्रावधानों का परीक्षण कीजिए तथा इसके क्रियान्वयन की प्रस्थिति पर प्रकाश डालिए।

15.Examine the main provisions of the National Child Policy and throw light on the status of its implementation.

 

  1. ‘‘भारत में जनांकिकीय लाभांश तब तक सैद्धांतिक ही बना रहेगा जब तक कि हमारी जनशक्ति अधिक शिक्षित, जागरूक, कुशल और सृजनशील नहीं हो जाती।’’ सरकार ने हमारी जनसंख्या को अधिक उत्पादनशील और रोज़गार-योग्य बनने की क्षमता मे वृद्धि के लिए कौन-से उपाए किए हैं?

16.“Demographic Dividend in India will remain only theoretical unless our manpower becomes more educated, aware, skilled and creative.” What measures have been taken by the government to enhance the capacity of our population to be more productive and employable?

 

  1. ‘‘विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यू.टी.ओ) के अधिक व्यापक लक्ष्य और उद्देश्य वैश्वीकरण के युग में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का प्रबंधन और प्रोन्नति करना है। परंतु (संधि) वार्ताओं की दोहा परिधि मृतोन्मुखी प्रतीत होती है, जिसका कारण विकसित और विकासशील देशों के बीच मतभेद है।’’ भारतीय परिप्रेक्ष्य में, इस पर चर्चा कीजिए।
  2. “The broader aims and objectives of WTO are to manage and promote international trade in the era of globalization. But the Doha round of negotiations seem doomed due to differences between the developed and the developing countries.” Discuss in the Indian perspective.

 

  1. शीतयुद्धोतर अंतर्राष्ट्रीय परिदृष्य के संदर्भ मंे, भारत की पूर्वान्मुखी नीति के आर्थिक और सामरिक आयामों का मूल्यांकन कीजिए।

18.Evaluate the economic and strategic dimensions of India’s Look East Policy in the context of the post Cold War international scenario.

 

  1. ‘‘भारत में बढ़ते हुए सीमापारीय आतंकी हमले और अनेक सदस्य-राज्यों के आंतरिक मामलों में पाकिस्तान द्वारा बढ़ता हुआ हस्तक्षेप सार्क (दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन) के भविष्य के लिए सहायक नहीं है।’’ उपर्युक्त उदाहरणों के साथ स्पष्ठ कीजिए।

19.“Increasing cross-border terrorist attacks in India and growing interference in the internal affairs of member-states by Pakistan are not conducive for the future of SAARC (South Asian Association for Regional Cooperation).” Explain with suitable examples.

 

  1. यूनेस्कों (संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक तथा सांस्कृतिक संगठन) के मैक्ब्राइड आयोग के लक्ष्य और उद्दश्य क्या-क्या हैं? इनमें भारत की क्या स्थिति है?

20.What are the aims and objectives of the McBride Commission of the UNESCO? What is India’s position on these?